शिवसागर का देवी डोल (Devi Dol)

 

हिन्दू धर्म में देवताओ को जैसे पूजा किआ जाता है उसी तरह देविओ की भी पूजा की जाती है। देविओ के प्रति की गयी उन्ही आराधना का एक अन्यतम निदर्शन है शिवसागर का देवी डोल (Devi Dol)। शिवसागर नगर के बीचो बिच अवस्थित ये मंदिर शिवसागर के बड़े तालाब और शिवः मंदिर के पास ही स्थित है।

देवी डोल का निर्माण आहोम राजा शिवा सिंघा (1714–1744) की पत्नी Bor Raja Ambika के निर्देश पर हुआ था।

आपको ये जानना जरूरी है की शिवः डोल, बिष्णु डोल और देवी डोल जो एक दूसरे के आस-पास है वो एक ही समय पर निर्माण किए गए थे। यानि सं 1733-34 के बिच। हालाकिं देवी डोल का निर्माण 1934 में हुआ था।

क्या आप जानते है की देवी मंदिर में किस देवी की पूजा की जाती है ?

दराचल ये और कोई नहीं बल्कि हिन्दू धर्म में अन्यतम आराध्य दुर्गा देवी ही है। दुर्गा पूजा और काली पूजा के समय यहा भक्तो की काफी भीड़ जमा होती है।

अगर आप हिन्दू धर्म की बलि प्रथा के सम्बन्ध जानना चाहते हो तो आप काली पूजा के समय इस जगह पर भ्रमण कर सकते है। देवी डोल के पास आपको और दो छोटे छोटे मंदिर देखने मिलेंगे। वो दो मंदिर हनुमान और भगवान् राम की मंदिर है।

देवी डोल भ्रमण करने के लिए सबसे अच्छा समय कौन सा है ?

अगर आप यू ही दर्शन करना चाहते हो तो आप किसी सप्ताह के शनिबार के समय आप जा शक्ति हो। क्योकि काफी लोग शनिबार को यहा पूजा के लिए आते है। लकिन अगर आप किसी बड़े मेले और पूजा की दर्शन करना चाहते हो तो आपके लिए दुर्गा पूजा का समय सबसे बेहतर होगा।

 

देवी डोल कितना बड़ा है ?

देवी डोल काफी बड़ा है लकिन शिवः डोल से ज्यादा नहीं। इसकी उच्चता है लगभग 60 फ़ीट है और चौड़ाई है 120 फ़ीट

 

निष्कर्ष (Conclusion)

अगर आपको हमारा ये लेख अच्छा लगा तो हमें निचे जरूर टिप्पणी करके बताईयेगा।

 

Read Our Another Awesome Post: – SATTRIYA DANCE OF ASSAM 

0 Comments

Leave a Comment