मानस नदी (Manas River In Hindi)

 

मानस नदी भारत (Manas River in Hindi) और भूटान सिमा के सिमा में स्थित एक अति महत्वपूर्ण नदी है। ये नदी ही वो सिमा है जो दक्षिण में भारत से भूटान राष्ट्र को अलग करती है। हिमालय की तलहटी में स्थित इस महत्वपूर्ण नदी की कुल लम्बाई है 376 किलोमीटर

क्या आप जानते है की भारतीय धर्मग्रंथो से ही इस नदी का नाम मानस पड़ा? पौराणिक कथाओ के अनुसार भगवान् शिव की एक पुत्री थी। जिसको मनसा के नाम से जानि जाती थे। कहा जाता है की मनसा सर्पो की देवी थी। इसी मनसा देवी के सम्मान के खातिर ही इस नदी का नाम मानस रखा गया।

आपको जानना जरूरी है की 376 किलोमीटर लम्बी इस नदी का 272 किलोमीटर भाग भूटान में आता है और 104 किलोमीटर भाग भारत राष्ट्र के असम राज्य में पड़ता है। आपके ज्ञातार्थ मई बता देता हूँ की मानस नदी असम के जोगोघुपा (Jogighopa) इलाके में ब्रह्मपुत्र नदी के साथ मिल जाती है, जिसके कारन इसको ब्रह्मपुत्र नदी का अन्यतम सहायक नदी भी कहा जाता है।

मानस नदी और मानस राष्ट्रीय उद्द्यान (Manas River and Manas National in Hindi)

मानस नदी के तट पर स्थित होने के कारन भारत और भूटान दो भिन्न रास्त्रो में इस नदी को केंद्र करके एक ही नाम के दो दो अलग राष्ट्रीय उद्द्यान है। हाँ आप बिलकुल ठीक समझे ये राष्ट्रीय उद्द्यान मानस राष्ट्रीय उद्द्यान ही है। जिसको भूटान में रॉयल मानस राष्ट्रीय उद्द्यान के नाम से जाना जाता है।

भारत का जो उद्द्यान है उसकी स्थापना की गयी थी सं 1990 में और भूटान में जो है, उसकी स्थापना की गयी थी सं 1966 में। क्या आप जानते है की असम राज्य में जिसको गौरव माना जाता है यानि एक सींग वाले गैंडे वो किस उद्द्यान में सबसे ज्यादा परिमाण में पाए जाते है?

है बिलकुल ये असम के मानस राष्ट्रीय उद्द्यान ही है और दूसरी और ये जगह बाघों के लिए भी काफी मशहूर है।

 

निकर्ष (Conclusion)

आशा करता हूँ की आपको मानस नदी के बारे में थोड़ा बहुत तथ्य इस लेख पर मिल सुका होगा।

अगर आपका कोई सुझाब हो तो निचे जरूर टिप्पणी कीजिएगा।

 

Related Articles: – रंग घर के ऊपर निबंध (RANG GHAR)

0 Comments

Leave a Comment